विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग स्वचालित वेंटिलेटर का निर्माण करेगा

विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग ने विप्रो 3डी के साथ संयुक्त रूप से स्वचालित वेंटिलेटर के प्रोटोटाइप का निर्माण करने के लिए साझेदारी की है।

मुख्य बिंदु

वेंटिलेटर COVID-19 संकट की तत्काल आवश्यकता को पूरा करने में मदद करेंगे। वेंटिलेटर को एएमबीयू (Artificial Manual Breathing Unit) कहा जाता है। यह वेंटीलेटर उन रोगियों को स्वचालित दबावयुक्त वेंटिलेशन प्रदान करेंगे जो साँस नहीं ले रहे हैं या साँस लेने में अत्यधिक कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं।

वर्तमान में भारत में केवल 40,000 वेंटिलेटर हैं। और भारत मुख्य रूप से स्विट्जरलैंड से वेंटिलेटर आयात कर रहा है। देश में वेंटिलेटर निर्माण के लिए भारत सरकार ने कई कदम उठाए जा रहे हैं। AMBU ऐसी ही एक पहल है।

लाभ

AMBU पोर्टेबल है और इसलिए यह रेलवे के डिब्बों में स्थापित अस्थायी अस्पताल के बेड के लिए आदर्श है। इसमें दबाव को बनाए रखने के लिए अतिरिक्त घटक के रूप में PEEP (पॉजिटिव एंड एक्सफोलिएशन प्रेशर) को जोड़ने के प्रावधान हैं।


आर्टिकल पसंद आया तो शेयर करें
एंड कमेंट करें