देश में 30% कोरोनावायरस के मामले तब्लीगी जमात के कारण : केंद्र सरकार

भारत सरकार ने COVID-19 के 1,023 ऐसे मामलों को ट्रेस किया है, जो तब्लीगी जमात से सम्बंधित हैं।

तब्लीगी जमात

हाल ही में इसका एक धार्मिक समारोह निजामुद्दीन मरकज मस्जिद में हुआ है। इस घटना से देश में कोरोना वायरस के 30% मामले आये हैं। इससे  तमिलनाडु सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। तमिलनाडु में 386 मामलों में से 259 लोगों ने तब्लीगी जमात के इवेंट में हिस्सा लिया था। उत्तर प्रदेश में इस कार्यक्रम में शामिल 160 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। उनकी बेकाबू हिंसा और दुर्व्यवहार के कारण उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू किया गया था।

कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग क्या है?

कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग यह पता लगाने के लिए है कि वायरस कैसे संचारित हुआ है। यह बीमारी के संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान, आकलन और प्रबंधन करने की प्रक्रिया है। भारत सरकार के दिशानिर्देश के अनुसार रिपोर्टिंग के 48 घंटे के भीतर संपर्क ट्रेसिंग को लागू किया जाना चाहिए।

राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम

यह अधिनियम पूरे भारत पर लागू होता है। यह केंद्र और राज्य सरकारों को सार्वजनिक व्यवस्था बनाए रखने के लिए इस अधिनियम लागू करने का अधिकार देता है।


आर्टिकल पसंद आया तो शेयर करें
एंड कमेंट करें