UNIT-1 : मनोविज्ञानः अर्थ एवं परिभाषाएँ

मनोविज्ञान का अर्थ ( मनोविज्ञान को अंग्रेजी में ‘साइकॉलॉजी’ (Psychology) कहते है। ‘साइकॉलोजी’ शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के दो शब्द ‘साइकी’ (Psyche) तथा ‘लोगस’ (Logos) से मिलकर हुई है। ‘साइकी’ शब्द का अर्थ है- आत्मा (Soul) तथा ‘लोगस’ शब्द का अर्थ हैं अध्ययन (Study)| अतः साइकॉलोजी का शाब्दिक अर्थ हैं- आत्मा का अध्ययन। 

मनोविज्ञान का प्रारम्भ अरस्तू के समय में दर्शनशास्त्र की एक शाखा के रूप में अनेक शताब्दियों पूर्व हुआ था। मनोवैज्ञानिकों के प्रयत्नों से धीरे-धीरे यह दर्शनशास्त्र से पृथक होकर एक स्वतंत्र विषय के रूप में उभरकर सामने आया। 

“मनोविज्ञान सीखने से सम्बन्धित मानव विकास के ‘कैसे’ की व्याख्या करता है। शिक्षा सीखने के ‘क्या’ को प्रदान करने की चेष्टा करती है।”

1.मनोविज्ञान- आत्मा का विज्ञान
(Psychology- Science of soul) 16th century  

प्लेटो (Plato), अरस्तू (Aristotle), डेकार्ट (Decarte) आदि यूनानी दार्शनिकों ने मनोवैज्ञानिक को आत्मा का विज्ञान के रूप में स्वीकार किया।

2.मनोविज्ञान-मस्तिष्क(मन) का विज्ञान
(Psychology- science of mind)17th and 18th century

17वीं व 18वीं शताब्दी के अन्त तक पम्पानोजी एवं थॉमस रेड ने मनोविज्ञान को मस्तिष्क का अध्ययन करने वाला विज्ञान कहा। 

3.मनोविज्ञान- चेतना का विज्ञान
(Psychology-  science of Conciousness)19th century

विलियम जेम्स ने 1890 में अपनी पुस्तक मनोविज्ञान के सिद्धान्त में मनोविज्ञान को चेतना के विज्ञान के रूप में परिभाषित किया।

विलियम वुन्ट ने जर्मनी के लिपजिग में 1879 में प्रथम मनोविज्ञान की प्रयोगशाला की स्थापना की।

वुन्ट और उनके शिष्य ब्रैडफोर्ड टिचनर ने मनोविज्ञान को चेतना का विज्ञान माना।

4.मनोविज्ञान- व्यवहार का विज्ञान
(Psychology-  science of Behaviour) 20th century

20वीं शताब्दी में विलियम मैकडूगल ने मनोविज्ञान को व्यवहार के विज्ञान के रूप में परिभाषित किया। विलियम मैक्डूगल ने 1905 में लिखा – मनोविज्ञान की सबसे अच्छी परिभाषा उसे प्राणियों के आचरण के सकारात्मक विज्ञान के रूप में समझने के द्वारा दी जा सकती है।

1908 में अपनी पुस्तक सामाजिक मनोविज्ञान का परिचय में  व्यवहार शब्द की व्याख्या कर इसे विस्तार दिया।

मैक्डूगल ने अपनी पुस्तक मनोविज्ञान की रूपरेखा में मनोविज्ञान को व्यवहार के विज्ञान के रूप में स्थापित किया।

पिल्सबरी एवं वाटसन ने मनोविज्ञान को व्यवहार के विज्ञान के रूप के प्रबल समर्थकों में से है।

वुडवर्थ- सर्वप्रथम मनोविज्ञान ने अपनी आत्मा का त्याग किया फिर इसने मन का त्याग किया फिर चेतना को त्यागा वर्तमान में व्यवहार को अपनाए हुए है।

मनोविज्ञान की परिभाषाएँ

कालसनिक– मनोविज्ञान मानव व्यवहार का विज्ञान है।

वुडवर्थ– मनोविज्ञान वातावरण के सम्पर्क में होने वाले मानव व्यवहारों का विज्ञान है।

बोरिंग– मनोविज्ञान मानव प्रकृति का विज्ञान है।

वाटसन-मनोविज्ञान व्यवहार का शुद्ध विज्ञान है।

मन– मनोविज्ञान अनुभव के आधार पर किए गए आन्तरिक अनुभवों एवं बाह्य व्यवहार का  विधायक विज्ञान है।

जेम्स ड्रेवर– मनोविज्ञान एक शुद्ध विज्ञान है जो मनुष्यों एवं पशुओं के व्यवहार का अद्ययन करता है।

मैक्डुगल– मनोविज्ञान आचरण तथा व्यवहार का विधायक विज्ञान है।

वारेन–  मनोविज्ञान वह विज्ञान है जो प्राणी एवं वातावरण के पारस्परिक संबंधों युक्त है।


आर्टिकल पसंद आया तो शेयर करें
एंड कमेंट करें