बिन्दुसार (298 ई.पू-272 ई.पू.)

  • जन्म – 340 ईसा पूर्व
  • स्थान – पाटलिपुत्र
  • राज्याभिषेक – 321 ईसा पूर्व
  • शासनकाल – 298 ईसा पूर्व-272 ईसा पूर्व
  • मृत्यु – 297 ईसा पूर्व
  • स्थान – पाटलिपुत्र , बिहार

बिन्दुसार चन्द्रगुप्त मौर्य का पुत्र था। यूनानियों ने इसे अमित्रघात या अमित्रचेट्स कहा है।
अन्य नाम – अमित्रोकेट्स, अलिट्रोकेड्स, भडासर (वायु पुराण), सिंह सेन
सीरिया के शासक एंटियोकस से बिन्दुसार ने 1. मीठी मदिरा 2. सूखे अंजीर 3. दार्शनिक भेजने की मांग की थी। एंण्टियोकस ने मदिरा एवं अंजीर भेजे थे।
बिन्दुसार ने सुदूरवर्ती दक्षिण भारतीय क्षेत्रों को मगध में मिलाया था।
सीरियाई शासक एंटियोकस ने डायमेकस नामक व्यक्ति को बिन्दुसार के राजदरबार में राजदूत के रूप में नियुक्त किया था।
बिन्दुसार आजीवक सम्प्रदाय का अनुयायी था।

बिन्दुसार (298-273 ईपू) मौर्य राजवंश के राजा थे जो चन्द्रगुप्त मौर्य के पुत्र थे। बिन्दुसार को अमित्रघात, सिंहसेन्, मद्रसार तथा अजातशत्रु वरिसार भी कहा गया है। बिन्दुसार महान मौर्य सम्राट अशोक के पिता थे।

चन्द्रगुप्त मौर्य एवं दुर्धरा के पुत्र बिन्दुसार ने काफी बड़े राज्य का शासन संपदा में प्राप्त किया। उन्होंने दक्षिण भारत की तरफ़ भी राज्य का विस्तार किया। चाणक्य उनके समय में भी प्रधानमन्त्री बनकर रहे।

बिन्दुसार के शासन में तक्षशिला के लोगों ने दो बार विद्रोह किया। पहली बार विद्रोह बिन्दुसार के बड़े पुत्र सुशीमा के कुप्रशासन के कारण हुआ। दूसरे विद्रोह का कारण अज्ञात है पर उसे बिन्दुसार के पुत्र अशोक ने दबा दिया।

बिन्दुसार की मृत्यु 273 ईसा पूर्व (कुछ तथ्य 268 ईसा पूर्व की तरफ़ इशारा करते हैं) हुई। बिन्दुसार को ‘पिता का पुत्र और पुत्र का पिता’ नाम से जाना जाता है क्योंकि वह प्रसिद्ध व पराक्रमी शासक चन्द्रगुप्त मौर्य के पुत्र एवं महान राजा अशोक के पिता थे।