भारत का सामान्य परिचय

भारत का प्राचीन नाम उत्तर भारत में बसने वाले आर्यो के नाम पर अर्यवृत किया गया। इन आर्यो के शक्तिशाली राजा भरत के नाम पर यह भारत कहलाया। वैदक आर्यो का निवास स्थान सिंधु घाटी में था। जिसे ईरानियों ने हिन्दु नदी तथा इस देश को हिन्दुस्थान कहा। यूनानीयों ने सिन्धु नदी को इण्डस तथा इस देश को इंडिया कहा।

भारत उत्तर में हिमालय पर्वत श्रृंखला, दक्षिण पश्चिम में हिन्दूकुश व सुलेमान श्रेणीयाँ, उत्तर-पश्चिम में पूर्वाचल पहाड़ीयाँ तथा दक्षिण विशाल हिन्द महासागर से सीमांकित एक वृहत भौगोलिक इकाई है जिसे भारतीय उपमहाद्वीप कहा जाता है। इसमें पाकिस्तान, नेपाल, भूटान, बंग्लादेश और भारत आदि देश आते हैं।

भारत की स्थिति एवं विस्तार

अक्षांशीय दृष्टि से भारत की स्थिति उत्तरी गोलार्ध में तथा देशान्तरिय दृष्टि से पूर्वी गोलार्ध में स्थित है। भारत का दक्षिण हिस्सा उष्ण कटिबंध तथा उत्तरी हिस्सा उपोष्णकटिबंध में स्थित है।

भारत का अक्षाशीय विस्तार: 6°4′ उत्तरी अक्षांश से 37°6′ उत्तरी अक्षांश तक तथा
देशान्तरीय विस्तार: 68°7′ पूर्वी देशान्तर से 97°25′ पूर्वी देशान्तर तक है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • भारत का दक्षिणतम बिन्दु इन्दिरा प्वाइंट(ग्रेट निकोबार द्वीप) 6°4′ उत्तरी अक्षांश पर स्थित है लेकिन मुख्य भूमि की दक्षिणतम बिन्दु 8°4′ उत्तरी अक्षांश कन्याकुमारी(तमिलनाडु) है।
  • भारत का मानक समय 82° 30′ पूर्वी देशान्तर(इलाहबाद के नैनी से) है।
  • मानक समय रेखा पर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओड़ीसा एवं आन्ध्र प्रदेश आदि राज्य स्थित है।
  • भारतीय मानक समय ग्रीनविच रेखा (0° पूर्वी देशान्तर) समय से 5 घंण्टे 30 मिनट आगे है।
  • कर्क रेखा 23° 30′ उत्तरी अक्षांश लगभग भारत के मध्य से गुजरती है।
    यह रेखा आठ राज्यों से होकर गुजरती है।
    गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखण्ड, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा एवं मिजोरम।
  • गांधीनगर, भोपाल, रांची, अगरतला, आइजोल, बांसवाड़ा इनमें से रांची शहर कर्क रेखा के सबसे नजदीक के शहर है।
  • कर्क रेखा के उत्तर की ओर स्थित राज्य – जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंण्ड, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, बिहार, अरूणाचल प्रदेश, नागालैण्ड, मेघालय, मणिपुर, असोम, सिक्किम।
  • कर्क रेखा के दक्षिण में स्थित राज्य – महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडू, गोवा, केरल, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, उड़ीसा।

भारत का विस्तार

भारत का उत्तर में कश्मीर से लेकर दक्षिण में कन्याकुमारी तक विस्तार 3214 किमी. है। पूर्व में अरूणाचल प्रदेश से लेकर पश्चिम में कच्छ तक विस्तार 2933 किमी. है। भारत की आकृति चतुष्कोणीय है। यह क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व का सातवां बड़ा देश(2.43 प्रतिशत) है। भारत का कुल क्षेत्रफल 32,87,263 वर्ग किमी है।

भारत के अंतिम सीमा बिन्दु

  • उत्तरतम बिन्दु – इन्दिरा काॅल(जम्मू-कश्मीर)
  • दक्षिणतम बिन्दु – इन्दिरा प्वांइट(ग्रेट निकोबार द्वीप)
  • पूर्वोत्तम बिन्दु – किबिथु(अरूणाचल प्रदेश)
  • पश्चिमतम बिन्दु – गोरमोता(गुजरात)

भारत का दक्षिणी बिन्दु इंदिरा प्वाइंट भूमध्य रेखा से 876 किमी. दुरी पर स्थित है। पहले इंदिरा प्वाइंट को ‘पिगमेलियन प्वांइट’ अथवा पाइरस प्वाइंट के नाम से जाना जाता था।

भारत की अन्तर्राष्ट्रीय सीमा

  • बांग्लादेश(4096 किमी.) – प. बंगाल, मेघालय, मिजोरम, त्रिपुरा, असोम
  • चीन(3917 किमी.) – जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, सिक्किम, अरूणाचल प्रदेश।
  • पाकिस्तान(3310 किमी.) – गुजरात, राजस्थान, पंजाब, जम्मू व कश्मीर।
  • नेपाल(1752 किमी.) – उत्तरप्रदेश, बिहार, पश्चिमी बंगाल, सिक्किम, उत्तराखण्ड।
  • म्यांमार(1458 किमी.) – अरूणाचल प्रदेश, नागालैण्ड, मिजोरम, मणिपुर।
  • भूटान(587 किमी.) – प. बंगाल, सिक्किम, अरूणाचल प्रदेश, असोम।
  • अफगानिस्तान(80 किमी.) – जम्मू एवं कश्मीर(पाक् अधिकृत)।

डूरण्ड रेखा – पाकिस्तान व अफगानिस्तान के बीच। भारत और अफगानिस्तान के बीच ‘डूरण्ड रेखा’ है, जो 1884 में सर डूरण्ड द्वारा निर्धारित की गई थी। अब यह रेखा पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच है। भारत एवं बांग्लादेश को ‘तीन बीघा गलियारा’ जोड़ता है।

मैकमोहन रेखा – भारत व चीन के बीच। यह रेखा 1914ई. में शिमला में निर्धारित की गई थी। यह भारत के अरूणाचल प्रदेश और चीन के मध्य सीमा का निर्धारण करती है।

रेडक्लिफ रेखा – भारत व पाकिस्तान के बीच। 17 अगस्त 1947 को सर एस. रेडक्लिफ द्वारा निर्धारित की गई थी। भारत और पाकिस्तान के मध्य नियंत्रण रेखा का निर्धारण 1972 में शिमला समझौते के तहत हुआ।

शून्य रेखा – त्रिपुरा व बांग्लादेश के बीच।

पाक् अधिकृत क्षेत्र – 1947 में आजादी के बाद पाकिस्तान ने स्थानीय लोगों की सहायता से जम्मू-कश्मीर के कुछ क्षेत्र पर कब्जा कर लिया। बाद में जम्मू-कश्मीर रियासत ने भारत में विलय की घोषण की लेकिन मामला यू.एन.ओ. में चला गया। इस प्रकार जम्मू-कश्मीर का यह हिस्सा भारत का होते हुए भी पाकिस्तान के कब्जे में है। जिसे हम पाक् अधिकृत कश्मिर के नाम से जानते हैं।


आर्टिकल पसंद आया तो शेयर करें
एंड कमेंट करें