राजस्थान में हस्त कलाएं

सोना, चांदी के आभूषण

  1. स्वर्ण और चांदी के आभूषण – जयपुर
  2. थेवा कला – प्रतापगढ़

थेवा कला में कांच पर हरे रंग से स्वर्णिम नक्काशी की जाती है। यह प्रतापगढ़ की प्रसिद्ध हस्त कला है।

  1. कुन्दन कला – जयपुर

स्वर्ण आभुषणों पर रत्न जड़ाई करना।

  1. कोफ्तगिरी – जयपुर,अलवर।

फौलाद की वस्तुओं पर सोने के तार की जड़ाई करना।

  1. तहरिशां – अलवर,उदयपुर

डिजायन को गहरा करके उसमें तार की जड़ाई करना। 

संगमरमर पर हस्तकला

  1. मार्बल की मुर्तियां – जयपुर,थानागाजी(अलवर)
  2. रमकड़ा – गलियाकोट(डुंगरपुर)

सोपस्टोन को तराश कर बनाई गई वस्तुएं।

लाख हस्तकला

  1. लाख की चुडि़यां – जयपुर,जोधपुर
  2. लाख के आभुषण – उदयपुर

हाथी दांत हस्तकला

  1. हाथी दांत की वस्तुएं – जयपुर,भरतपुर,उदयपुर, पाली
  2. हाथी दांत एवं चन्दन की खुदाई,घिसाई एवं पेटिग्स – जयपुर

बंधेज/टाई- डाई/रंगाइ

1.चुनरी – जोधपुर

कपड़े पर छोटी – छोटी – छोटी बिन्दिया

  1. धनक – जयपुर,जोधपुर

कपड़े पर बड़ी- बड़ी बिन्दिया

  1. लहरिया – जयपुर

कपड़े पर एक तरफ से दुसरी तरफ तक धारिया

  1. मोठड़े – जोधपुर

कपड़े पर एक दुसरे को काटती हुई धारियां

  1. बेल- बूंटेदार छपाई – सांगानेर(जयपुर)
  2. फल-पत्तियां,पशु-पक्षियों की प्रिन्ट – बगरू(जयपुर)

7.लाॅडनू प्रिन्ट – लाॅडनू(नागौर)

  1. गोल्डन प्रिन्ट – कुचामन(नागौर)
  2. पोमचा – जयपुर

पीले रंग की ओढनी

10.जाजम प्रिन्ट – चित्तौड़गढ़

  1. दाबू प्रिन्ट – अकोला(चित्तौड़गढ़)

12. ओढ़नियों के प्रकार

  1. तारा भांत की ओढ़नी – आदिवासी महिलाएं ओढती है।
  2. कैरी भांत की ओढ़नी – आदिवासी महिलाएं ओढती है।
  3. लहर भांत की ओढ़नी – आदिवासी महिलाएं ओढती है।
  4. ज्वार भांत की ओढ़नी – आदिवासी महिलाएं ओढती है।

13. पगडि़यों के प्रकार

उदयशाही, भीमशाही, अमरशाही, चूणावतशाही, जसवन्तशाही, राठौड़ी, मेवाड़ी।

  1. अजरक प्रिन्ट – बालोत्तरा(बाड़मेर)

लाल एवं नीले रंग की ओढ़नी

  1. मलीर प्रिन्ट – बालोत्तरा(बाड़मेर)

काला एवं कत्थई रंग लालिमा लिये हुए।

कशीदाकारी

  1. गोटे का कार्य – जयपुर,खण्डेला(सीकर)

गोटे के प्रकार – लप्पा, लप्पी, किरण, गोखरू,बांकली, बिजिया, मुकेश, नक्शी।

  1. जरदोजी – जयपुर

कपड़े पर स्वर्णिम धागे से कढ़ाई

पाॅटरी/चीनी मिट्टी के बर्तन

1.ब्ल्यू पाॅटरी – जयपुर

आगमन – पर्शिया(ईरान)

सवाई रामसिंह प्रथम के काल में आगमन

कलाकार – श्री कृपाल सिंह शेखावत

2.ब्लैक पाॅटरी – कोटा

  1. सुनहरी पाॅटरी – बीकानेर
  2. कागजी पाॅटरी – अलवर

कपड़े की बुनाई

  1. ऊनी कंबल – जयपुर,जोधपुर, अजमेर
  2. इरानी एवं भारतीय पद्धति के कालीन – जयपुर,बाड़मेर, बीकानेर
  3. वियना व फारसी गलीचे – बीकानेर
  4. नमदे – टोंक,बीकानेर
  5. लोई – नापासर(बीकानेर)
  6. कोटा डोरिया – कैथून(कोटा)
  7. मसूरिया – कैथून(कोटा),मांगरोल(बांरा)
  8. खेसले – लेटा(जालौर),मेड़ता(नागौर)
  9. दरियां- जयपुर, अजमेर, लवाणा (दौसा), सालावास(जोधपुर), टांकला (नागौर)

चित्रकला

1.पिछवाईयां – नाथद्वारा(राजसमंद)

  1. मथैरण कला – बीकानेर

पुरानी कथाओं पर आधारित देवताओं के भित्तिचित्र बनाना

  1. उस्तकला – बीकानेर

ऊंट की खाल पर स्वर्णिम नक्काशी

कलाकार – हिस्सामुद्दीन

  1. टेराकोटा(मिट्टी के बर्तन एवं खिलौने) – मोलेला (राजसमंद), बनरावता (नागौर), महरोली (भरतपुर), बसवा(दौसा)

कागजी टेरीकोटा – अलवर

सुनहरी टेरीकाटा – बीकानेर

पीतल हस्तकला

  1. पीतल की खुदाई,घिसाई एवं पेटिंग्स – जयपुर, अलवर
  2. बादला – जोधपुर

जस्ते से निर्मित पानी को ठण्डा रखने का बर्तन

चमड़ा हस्तकला

  1. नागरी एवं मोजडि़या – जयपुर,जोधपुर

बिनोटा – दुल्हा- दुल्हन की जुतियां

  1. कशीदावाली जुतियां – भीनमाल(जालौर)

लकड़ी हस्तकला

काष्ठकला – जेढाना(डूंगरपुर),बस्सी(चित्तौड़गढ़),

बाजोट – चौकी को कहते हैं।

कठपुतलियां – उदयपुर

लकड़ी के खिलौने – मेड़ता(नागौर)

लकड़ी की गणगौर, बाजोर, कावड़,चैपडत्रा – बस्सी(चित्तौड़गढ़)

कागज हस्तकला

  1. कागज बनाने की कला – सांगानेर,स. माधोपुर
  2. पेपर मेसी(कुट्टी मिट्टी) – जयपुर

कागज की लुग्दी, कुट्टी, मुल्तानी मिट्टी एवं गोंद के पेस्ट से वस्त ुएं बनाना।

तलवार

सिरोही, अलवर, अदयपुर

तीर कमान

चन्दूजी का गढ़ा(बांसवाड़ा)

बोड़ीगामा(डूंगरपुर)


आर्टिकल पसंद आया तो शेयर करें
एंड कमेंट करें