सिंहगढ़ की लड़ाई (1670)

  • युद्ध – 4 फरवरी 1670 
  • किनके बीच – छत्रपति शिवाजी के सेनानायक तानाजी मालुसरे और उदयभान सिंह राठौड़ के बीच 
  • परिणाम – शिवजी की विजय। तानाजी की मृत्यु।

सिंहगढ़ का युद्ध 4 फरवरी 1670 को रात के समय पुणे के पास सिंहगढ़ किले पर हुआ था । यह युद्ध छत्रपति शिवाजी के सेनानायक तानाजी मालुसरे और उदयभान सिंह राठौड़ के बीच हुआ था ।

उदयभान सिंह राठौड़ सिंहगढ़ दुर्ग का दुर्गपति था और मुगल सेना के सेनानायक जय सिंह प्रथम के अधीन कार्यरत था। किले की ओर जाने वाली एक खड़ी चट्टान को रात में “यशवंती” नाम की एक टेम्पररी मॉनिटर छिपकली की मदद से स्केल किया गया था, जिस पर मराठों ने एक रस्सी लगाकर दीवार को अपने पंजों से स्केल करने के लिए भेजा।

इसके बाद, तानाजी और उनके लोगों बनाम मुगल सेना के बीच एक युद्ध हुआ, जिसका नेतृत्व उदयभान सिंह राठौड़, एक राजपूत सरदार था, जो किले पर अधिकार रखता था।

तानाजी मालुसरे और उदयभान सिंह राठौड़ के बीच द्वंद्व था, जिसमें तानाजी मालुसरे ने अपनी ढाल खो दी, उन्होंने अपने पगड़ी के कपड़े में अपना हाथ लपेट लिया और उदयभान सिंह राठौड़ से हमलों के लिए इसका प्रयोग किया, उदयभान सिंह राठौड़ ने अपनी तलवार से तानाजी मालुसरे का एक हाथ काट दिया।

जिससे तानाजी मालुसरे घायल हो गए लेकिन घायल होते हुए भी उन्होंने एक हाथ से लड़ते हुए उदयभान सिंह राठौड़ को मार दिया । युद्ध में घायल और ज्यादा खून बहने से तानाजी मालुसरे की मृत्यु हो गयी। तानाजी मालुसरे के छोटे भाई सूर्यजी मालुसरे और मामा शेलार राम ने बचे हुए गैरीसन को हराया, सूर्यजी मालुसरे ने कोंढाना पर भगवा ध्वज लहराया और कोंढाना पर कब्ज़ा कर लिया।

जब तानाजी मालुसरे को मृत पाया गया तो शिवाजी महाराज ने कहा कि “गढ़ तो हाथ में आया, परन्तु मेरा शेर ( तानाजी मालुसरे) चला गया ” मतलब, जो किले पर कब्जा कर लिया गया है, लेकिन शेर (तानाजी मालुसरे) की मृत्यु हो गई है।” छत्रपति शिवाजी महाराज ने किले का नाम कोंधना किले से सिंहगढ़ रख दिया।

कोंढाना किले को अब सिंहगढ़ के नाम से जाना जाता है।

युद्ध में उनके योगदान की याद में किले पर तानाजी मालुसरे की एक प्रतिमा बनाई गयी ।