नक्सबंदी सम्प्रदाय

  • स्थापना – ख्वाजा वहाउद्दीन नक्शबंद।
  • भारत में इसका प्रचार – ख्वाजा बकी बिल्लाह (1563-1603 ई.) ने किया।

यह लोग सनातन इस्लाम में आस्था रखते थे और पैगम्बर द्वारा प्रतिपादित नियमों का ही पालन करते थे।

प्रचार-प्रसार शेख़ अहमद सरहिन्दी ‘मुजाहिद’ अर्थात् ‘इस्लाम के नवजीवनदाता’ या सुधारक के रूप में प्रसिद्ध थे। ख़्वाजा मीर दर्द नक्शबंदी सम्प्रदाय के अन्तिम विख्यात सन्त थे।

उन्होंने एक अलग मत ‘इल्मे इलाही मुहम्मदी’ चलाया और सम्प्रदाय के प्रचार-प्रसार के लिए बहुत कार्य किया। इससे सम्बन्धित तरह-तरह के नक्शे बनाकर उसमें रंग भरते थे। औरंगज़ेब, शेख़ अहमद सरहिन्दी के पुत्र शेख़ मासूम का शिष्य था।

वंशावली नक़्शबंदिया भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान, चीन, मध्य एशियाई गणराज्यों एवं मलेशिया में पाई जाने वाली मुस्लिम सूफ़ियों की रूढ़िवादी बिरादरी है। ये बिरादरी अपनी वंशावली को पहले ख़लीफ़ा अबुबक्र से जोड़ती है।

बुख़ारा, तुर्किस्तान में इस संप्रदाय के संस्थापक बहाउद्दिन (मृत्यु 1384) को ‘अन-नक़्शबंद‘ कहा जाता था, क्योंकि मान्यता के अनुसार उनके द्वारा निर्धारित अनुष्ठान से दिल पर ख़ुदा की छाप पड़ती थी और इसलिए उनके अनुयायी ‘नक़्शबंदिया‘ कहलाने लगे।

इस संप्रदाय को पर्याप्त जनसमर्थन नहीं मिल सका, क्योंकि इसकी स्तुतियाँ बहुत शांत है और मन ही मन ज़िक्र के जाप पर ज़ोर देती हैं।

अहमद सरहिंदी (1564-1624) के सुधारवादी उत्साह के कारण 17वीं सदी में भारत में नक़्शबंदियों को पुनर्जीवन मिला और उन्होंने 18वीं एवं 19वीं सदी में पूरे इस्लामी जगत् के मुस्लिम जीवन के सुधार में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।